मुख पृष्ठ » नियम व शर्तें

नियम व शर्तें Last Updated Date : 03 Feb 2015

राष्ट्रीय समाज रक्षा संस्थान, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की अधिकारिक वेबसाइट को आम जनता में सूचना का प्रसार करने के लिए विकसित किया गया है। यद्यपि वेबसाइट की विषय-वस्तु की शुद्धता और यथा तथ्यता सुनिश्चित करने के हर संभव प्रयास किए गए हैं फिर भी इसे कानूनी वक्तव्य के रूप में नहीं माना जाना चाहिए अथवा किसी कानूनी उद्देश्य के लिए इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

राष्ट्रीय समाज रक्षा संस्थान, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की वेबसाइट की विषय-वस्तु किसी पूर्व सूचना के परिवर्तित की सकती है। 

किसी भी मामले में राष्ट्रीय समाज रक्षा संस्थान, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय किसी खर्च, हानि या क्षति सहित इस वेबसाइट के उपयोग के संबंध में अथवा इसके उपयोग से हुए किसी भी प्रकार के  नियंत्रण रहित प्रत्यक्ष या परिणामी हानि या क्षति अथवा किसी खर्च के लिए जिम्मेवार नहीं होगा। यदि वेबसाइट पर प्रोड्यूस किसी अधिनियम, नियम, विनियम, नीतिगत वक्तव्य आदि के बारे में विभाग में उपलब्ध संगत अधिनियमों, नियमों, विनियमों, नीतिगत वक्तव्यों में निहित विवरणों में कोई अंतर होता है तो विभाग में मौजूद विवरण को सही माना जाएगा। 

इस वेबसाइट में शामिल की गई वेबसाइटों के लिंक केवल जनता की सुविधा के लिए दिए गए हैं। राष्ट्रीय समाज रक्षा संस्थान, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय लिंक वेबसाइटों की विषय-वस्तु अथवा विश्वसनीयता के लिए जिम्मेवार नहीं है और इनके व्यक्त विचारों को अनिवार्यत: मान्य नहीं करता है। इस बात की भी गारंटी नहीं है कि ऐसे लिंक पृष्ठ हर समय उपलब्ध हों। 

इस वेबसाइट पर प्रदर्शित सामग्री को बिना किसी प्रभार के पुनरुत्पादित किया जा सकता है। तथापि, सामग्री को शुद्ध रूप में पुरुत्पादित किया जाए और इनका उपयोग अपकर्षी रूप में या भ्रामक संदर्भ में न किया जाए। जब कभी सामग्री प्रकाशित की जाए या दुसरों को जारी की जा रही हो तो स्रोत का स्पष्ट उल्लेख किया जाए। तथापि, इस सामग्री को पुनरुत्पादित करने की अनुमति किसी और सामग्री जो किसी तृतीय पक्ष की कापीराइट के रूप में निर्धारित है, पर लागू नही होगी। ऐसी सामग्री को पुनरुत्पदित करने का प्राधिकार संबंधित विभाग/कापीराइट धारक से प्राप्त करना चाहिए।

इन शर्तों और निबंधनों को भारतीय कानूनों के अनुसार और इनके द्वारा नियंत्रित किया जाएगा। इन शर्तों और निबंधनों के अंतर्गत उत्पन्न कोई विवाद भारतीय न्यायालयों के अनन्य अधिकार क्षेत्र के अध्यधीन होगा।